100 ग्राम राजमा यानी प्रोटीन और आयरन का महासंगम

प्रोटीन का नाम सुनकर जिन चीजों की तस्वीरें दिमाग में आती हैं उनमें से एक है राजमा। कसरत करने वालों और कसरत न करने वालों दोनों की पसंदीदा फूड लिस्ट में राजमा का नाम आता है। इसे इसके विशेष आकार के कारण किडनी-बीन्स (Red Kidney Beans) भी कहा जाता है। दुनियाभर के शाकाहारी लोग इसका सेवन करते हैं। भारत में आप जानते हैं, लोग राजमा-चावल के दीवाने हैं।

राजमा स्वाद के साथ-साथ सेहत के लिए भी फायदेमंद होता है। इसमें अधिक मात्रा में प्रोटीन होता है, जो लोग नॉनवेज नहीं खाते हैं, उनके लिए यह प्रोटीन का अच्छा स्रोत है। शरीर में मेटापोलिस्म बढ़ाने और एनर्जी के लिए आयरन सबसे जरूरी होता है और इसमें आयरन की अधिकता होती है। यह शु्गर को कंट्रोल करने में भी काफी मददगार साबित होता है। जो लोग अच्छे प्रोटीन की तलाश में होते हैं वो अक्सर इंटरनेट पर इन सवालों के जवाब खोजते हैं –

  • 100 ग्राम राजमा में प्रोटीन
  • राजमा में कितना प्रोटीन होता है
  • राजमा खाने के फायदे
  • राजमा खाने के नुकसान
  • राजमा में फैट
  • राजमा कितना खाएं

राजमा खाने के फायदे / Benefits of Red Kidney Beans

राजमा खाने के कई फायदे हैं। इनमें से सबसे बड़ा लाभ ये है कि राजमा प्रोटीन का बहुत अच्छा, सस्ता और शाकाहारी स्रोत है। दुबले-पतले लोगों को मोटा होना हो वो बादाम, काला चना, मूंगफली के अलावा राजमा को भी अपनी डाइट का अहम हिस्सा बनाना चाहिए। इसकी बस यही खासियत नहीं है ये आयरन और कैल्शियम के मामले में भी काफी अमीर है। आयरन से कमजोरी दूर होती है और कैल्शियम से हड्‌डी मजबूत होती है।

1 ढेर सारा उम्दा प्रोटीन

सौ ग्राम राजमा में 24 ग्राम प्रोटीन होता है। यह बॉडी बिल्डिंग के लिहाज से भी काफी सही चीज है। बस आपको इतना करना है कि राजमा की जो सब्जी बने उसके साथ आप चावल कम से कम रखें। हम अक्सर करते ये हैं कि राजमा के साथ ढेर सारा चावल रख लेते हैं। अगर आपको मसल्स बनाने हैं तो राजमा ज्यादा रखें और चावल बहुत कम। दोपहर की डाइट में एक बड़ा कटोरा भरकर खाएं।

पोषण तथ्य/ Nutrition Facts*

  • कैलोरी – 333
  • फैट – 0.8 ग्राम
  • कॉलेस्ट्रॉल – 0 एमजी
  • सोडियम – 24 एमजी
  • पोटाशियम – 1406 एमजी (रोज की जरूरत का 40%)
  • कार्बोहाइड्रेट – 60 ग्राम
  • फाइबर – 25 ग्राम
  • शुगर – 2.2 ग्राम
  • प्रोटीन – 24 ग्राम
  • आयरन – रोज की जरूरत का 45%
  • कैल्शियम – रोज की जरूरत का 14%
  • विटामिन बी6 – रोज की जरूरत का 20%
  • मैग्नीशियम – रोज की जरूरत का 35%

* प्रति 100 ग्राम

Related : हैवी बॉडी बनाने वाले टॉप 10 फूड 

2 एनर्जी मिलेगी

शरीर में मेटापोलिस्म बढ़ाने और एनर्जी के लिए आयरन सबसे जरूरी होता है और इसमें आयरन की अधिकता होती है। आयरन से रेड ब्लड सेल्स बढ़ते हैं और रेड ब्लड सेल्स ही ऑक्सीजन सोखते हैं। आपने ध्यान दिया होगा जो महिलाएं थकी सी रहती हैं या चक्कर आते हैं उनमें अक्सर एनीमिया यानी आयरन की कमी पाई जाती है।

3 वेट कंट्रोल होगा

वेग गेन करता हो तो राजमा आपके काम का है, मसल्स बनाने हों तो ये आपके काम का है और वजन कम करना हो तो भी ये आपके काम का है। इससे क्या रिजल्ट आएगा ये इस बात पर डिपेंड करता है कि आप कितना खा रहे हैं। लंच के समय राजमा को सूप और सलाद के रूप में खाएंगे ता वैट कंट्रोल में रहेगा।

4 ब्लड शुगर कम होगा 

इसमें मौजूद फाइबर शरीर में मेटापोलिस्म मेन्टेन करते हैं। ये कार्बोहाइड्रेट को भी कम करते हैं, इससे ब्लडशुगर कम होता है। फाइबर की वजह से ब्लड में कार्बोहाड्रेट के घुलने की रफ्तार कम हो जाती है। इसलिए इसे खाने से अचानक आपका ब्लड शुगर लेवल नहीं बढ़ेगा। राजमा का ग्लाइसेमिक इंडेक्स यानी जीआई 19 है। यह काफी लो है। ग्लाइसेमिक इंडेक्स तय करता है कि किसी चीज को खाने के बाद कितनी तेजी से ब्लड शुगर लेवल बढ़ेगा।

5  कॉलेस्ट्रोल और ब्लड प्रैशर कम करेगा

BP batayega Ladka hoga ya Ladki

सौ ग्राम राजमा में करीब 25 ग्राम फाइबर मौजूद होता है। एक इंसान को एक दिन में जितना फाइबर चाहिए होता है उसका 100 फीसदी तो हमें सौ ग्राम राजमा से ही मिल जाता है। इसका फाइबर पेट में जाकर जेल जैसा हो जाता है जो आपका कॉलेस्ट्रोल कम करेगा। इसके अलावा राजमा में मौजूद मैग्नीशियम व पोटेशियम ब्लडप्रेशर को भी कंट्रोल करते हैं।

6 इम्यून सिस्टम मजबूत होगा

राजमा में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है। यह आपके शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली (Immune System)को मजबूत बनाएगा। इससे बीमारियां आप पर हावी नहीं होंगी। आपने शायद ये नोट नहीं किया हो मगर राजमा खाने वालों को बुखार जैसी बीमारियां हम होती हैं। हालांकि ज्यादा राजमा खाने वालों को पेट की परेशानियां हो जाती हैं। बहरहाल अभी तो हम फायदों के बारे में बात करेंगे।

Related : टेस्टोसटेरोन बढ़ाने वाले टॉप 10 फूड 

7 विषैले तत्व बाहर निकलता है

राजमा में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट होता है और इसको खाने से शरीर के अंदर के सारे विषैले तत्व बाहर निकल जाते हैं। वहीं यह पेट में घुलनशील फाइबर बनाता है जो आपके पाचन में बहुत सहायक साबित होगा। इसमें मौजूद कैल्शियम, बायोटिन व मैगनीस होता है जो हड्डी, नाखून और बालों के लिए बहुत अच्छा होता है।

राजमा के नुकसान / Side effects of Kidney Beans

राजमा स्वादिष्ट है लेकिन फायदे के साथ ही इसके कुछ नुकसान भी जुड़े हैं। इसमें फाइबर की मात्रा ज्यादा होती है और अगर आप ज्यादा राजमा खाते हैं तो इससे आपके शरीर को नुकसान पहुंचता है। दरअसल, अगर शरीर में ज्यादा फाइबर चला जाता है तो पाचन क्रिया प्रभावित होने लगती है। आइए बताते हैं इसका और क्या-क्या नुकसान हो सकते हैं

  1. राजमा का अधिक सेवन करने से पेट में गैस, सूजन और मांसपेशियों से संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है
  2. राजमा में फोलिक एसिड पाया जाता है, इसकी मात्रा बढ़ने से कैंसर का खतरा बढ़ सकता है
  3. आपके शरीर को 8-18 मिलीग्राम आयरन की जरूरत होती है, जबकि एक कप राजमा में 5.2 मिलीग्राम आयरन होता है। अधिक राजमा शरीर में आयरन की मात्रा को गड़बड़ा देगा और इसके कारण कारण ब्रेन, हार्ट रिस्क बढ़ता है और स्ट्रोक की परेशानी भी हो सकती है।
  4. और एक खास बात कच्चा राजमा तो बिलकुल भी न खाएं, नहीं तो यह पेट दर्द का कारण बन जाएगा।
  5. इसके सेवन से वजन बढ़ने लगता है। इसलिए हमें यह देखना होगा कि एक दिन की डाइट में इसे कितना लेना है। अगर आप कसरत करते हैं तो ज्यादा राजमा खा सकते हैं।

राजमा के बारे में कुछ खास बातें

प्रचलित नाम : फ्रेन्चबीन
उगाने के मौसम : रबी (मैदानी क्षेत्र) तथा खरीफ (पहाड़ी क्षेत्र)
उत्पत्ति : राजमा की उत्पति अमेरिका में हुई
फिल्म : राजमा-चावल के नाम से फिल्म भी बनाई जा चुकी है। जिसमें मुख्य कलाकार ऋषि कपूर थे।

राजमा के प्रकार / Types of Kedney beans

दुनिया के बाजारों में राजमा अलग-अलग रंगों और आकारों में मिलता है। आइए हम बताते हैं कि राजमा कितने प्रकार का होता है और इसका उपयोग कैसे किया जाता है।

गहरा लाल राजमा – यह आकार में थोड़ा बड़ा होता है और इसका उपयोग अधिकतर सूप और सलाद में किया जाता है।
हल्का लाल राजमा – यह भी आकार में बढ़ा होता है।
गुलाबी रंग का राजमा – यह राजमा छोटे आकार का होता है।

काला राजमा – यह मीडियम आकार में काले रंग का होता है और खाने में थोड़ा मीठा होता है।
नेवी बीन्स – यह छोटे आकार में होता है।
ग्रेट नॉर्दर्न बीन्स – फ्रांस में पाए जाने वाले इस राजमा की ऊपरी सतह सफेद रंग की होती है।

Bottom Line

राजमा के बारे में हम आपको सारी जानकारी दे चुके हैं। अब इसका कितनी मात्रा में सेवन करना है ये आपकी जरूरत पर डिपेंड करता है। अगर आप मसल्स बना रहे हैं या वेट गेन कर रहे हैं जो ढेर सारा राजमा अपनी डाइट में ले सकते हैं। हालांकि ये जरूर याद रखें कि इसके साथ आपको प्रॉपर एक्सरसाइज भी करनी होगी। वरना आपका यूरिक एसिड और बॉडी में आयरन का लेवल जरूरत से ज्यादा बढ़ सकता है।  आप राजमा उबाल कर ही खाएं और इसके साथ हमेशा हींग अथवा हरड़ जैसी चीजें भी खाएं ताकि इससे पेट में गैस न बने।

Check Also

हां इसके नतीजे कई बार बहुत अच्छे निकलते हैं, मगर ये बात सौ फीसदी छूठ है कि आप बिना व्हे प्रोटीन बॉडी नहीं बना सकते। इस लेख में व्हे प्रोटीन के लाभों के बारे में जानेंगे।

5 लाभ जिनकी वजह से व्हे प्रोटीन पर फिदा हैं बॉडी बिल्डर

जिम में पहला दिन हुआ नहीं कि लोग व्हे प्रोटीन के बारे में बात करने ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *