Home / BODY BUILDING / लाल लंगोट बांधने के 5 बड़े फायदे जानकर चौंक जाएंगे आप

लाल लंगोट बांधने के 5 बड़े फायदे जानकर चौंक जाएंगे आप

लंगोट बांधने के क्या फायदे हैं langot bandhane ke kya fayde hain और न बांधने पर क्या नुकसान होता है ये सवाल अक्सर उन लोगों के मन में आता है जो लोग अखाड़े या जिम में उतरते हैं। जिम जाने वाले कई युवा ये सवाल करते हैं कि लंगोट पहनना चाहिए या नहीं। अगर आप के मन में भी ये सवाल है तो सबसे पहले हम आपको सीधा सा जवाब दे देते हैं- लंगोट पहनना अच्छा होता है। अगर आपको उससे कोई परेशानी नहीं है तो कसरत करते वक्त लंगोट जरूर पहनें।

वैसे कई लोग उसके बदले टाइट अंडरवियर या सपोर्टर पहनते हैं मगर वो दोनों ही कुछ टाइम के यूज के बाद ढीले हो जाते हैं जबकि लंगोट को आप अपने हिसाब से कितना भी टाइट कर सकते हैं और वो सही ढंग से बंधा है तो ढीला होने का सवाल ही पैदा नहीं होता। ओलंपिक पदक जीतने वाले नामी पहलवान सुशील सिंह ने बीबीसी को दिए एक इंटरव्यू में लंगोट की खूबियां गिनाईं हैं। सुशील का कहना है कि लंगोट से पहलवान अनुशासन में आता है। यह पहलवानी का अहम हिस्सा है।

Langot Bandhane ke labh/लंगोट बांधने के लाभ

लंगोट बांधने का सबसे बड़ा फायदा पहुंचता है आपके टेस्टिल्स यानी अंडकोषों को। कई बार ज्‍यादा मेहनत करने की वजह से उनका साइज बढ़ जाता है। आम भाषा में हम ये भी कहते हैं कि उनमें पानी भर गया है। अगर एक बार ऐसा हो गया तो फिर वो ऑपरेशन से ही ठीक होता है। लंगोट आपके अंडकोषों को टाइट करके रखता है इससे पानी भरने की समस्‍या नहीं होती। इसके अलावा इससे लोवर एबडॉमिन की मसल्स को सपोर्ट मिलता है।

जिनके पेट के निचले हिस्से में ज्यादा हैवी कसरत करने से सूजन आ जाती है उन्हें भी इसका इस्तेमाल करना चाहिए। रनिंग करते वक्त भी लंगोट पहनना चाहिए इससे नीचे की चीजें इधर उधर नहीं भागतीं। वैसे तो लंगोट किसी भी कलर का हो सकता है मगर लाल लंगोट (lal langot) अनुशासन का प्रतीक होता है। लाल रंग बजरंग बली से भी जुड़ता है। अखाड़ों में आमतौर पर हनुमान जी की ही प्रतिमा लगी होती है। लाल रंग की निशानी भी होती है।

क्या लंगोट बांधना जरूरी है

लंगोट बांधने के क्या फायदे होते हैं ये हमने आपको बता दिए हैं। बहुत से ऐसे लोग हैं जो सालों से जिम कर रहे हैं और लंगोट भी नहीं बाधते और उन्हें कोई प्रॉबलम भी नहीं हुई है। आप सपोर्टर या टाइट अंडरवियर पहनकर भी काम चला सकते हैं, लेकिन ये जरूरी तो नहीं कि अगर बाकी लोगों को कोई परेशानी नहीं हुई है तो आपको भी नहीं होगी। दूसरी बात ये भी है कि अक्सर लोग ये बताते ही नहीं हैं कि उनके अंडकोषों में पानी भर गया है।

अगर आपको लंगोट बांधने से एलर्जी नहीं है तो फिर इसे बांधने में हिचकिचाहट कैसी। ये आपकी तैयारी का एक हिस्‍सा होता है। अगर आप स्पोर्ट्स शूज नहीं पहनेंगे तब भी उतनी ही बेंच प्रैस लगाएंगे जितनी शूज पहनकर मगर शूज, ट्रैक पैंट, टीशर्ट हमारी तैयारी का हिस्‍सा होता है। इसी तरह से लंगोट हमारी तैयारी का हिस्सा होता है। आप भारतीय हैं तो इसका सम्‍मान करें और कसरत से पहले लंगोट पहनें। इससे आपका माइंड और बॉडी कड़ी मेहनत के लिए तैयार हो जाएंगे।

क्या इसे बांधने में दो दिन लगते हैं

ऐसा कई बार सुनने में आता है कि कुछ ऐसे लंगोट होते हैं जिन्हें बांधने में दो दिन लग जाते थे। ये दरअसल सच नहीं है ये महज एक कहावत है। दरअसल लंगोट बांधने का भी अपना तरीका होता है। ऐसा नहीं होना चाहिए कि आप लंगोट बांधकर अखाड़े में उतरे और वो खुल गया। कई नए पहलवान जब लंगोट बांधना सीख रहे होते हैं और उन्हें ढंग से लंगोट बांधने में काफी टाइम लग जाता है। ऐसे में कहा जाता था कि लंगोट बांधने में ही दो दिन लगा देगा तो कुश्ती कब लड़ेगा। ये दरअसल हंसी मजाक का हिस्सा है।

Bottom line 

हमने आपको langot bandhane ke fayde लंगोट बांधने के जो फायदे बताएं हैं उनके अलावा भी इसके कई फायदे गिनाए जाते हैं। वैसे तो अगर आप इंटरनेट पर सर्च करेंगे तो लोग लंगोट के दसों फायदे गिना देंगे, जैसे इससे जानवर बांध सकते हैं। इससे दुश्मन का गला घोंट सकते हैं या इसमें पत्थर बांधकर लड़ाई कर सकते हैं वगैरा वगैरा। मगर हमारा मकसद आपको बस इतना बताना था कि लंगोट से आपके अंडकोष सुरक्षित रहते हैं और आप अनुशासन में रहते हैं।

 

 

Check Also

इन दिनों niacin को लेकर काफी चर्चा हो रही है, इसे कुछ लोग नाइसिन तो कुछ लोग नियासिन भी कहते हैं। नियासिन को आम भाषा में विटामिन B3 के नाम से जाना जाता है।

नियासिन के लाभ और साइड इफेक्ट

बॉडीबिल्डिंग में सप्लीमेंट्स की गिनती लगातार बढ़ती जा रही है। इन दिनों niacin को लेकर ...

21 comments

  1. SIR 1 DIN ME KITNA GRAM BADAM ALMOND KHA SKTE H

    • भाई हजम करने के ऊपर है। वैसे दिन में एक मुट्ठी भरकर बादाम खा लेने चाहिए।

  2. hlo sir mei ye janna chata hun ki 18 saal ke baad bhi height kis age tak badti hai please sir koi kahta hai height 25 saal ki age tak badti hai please sir mei apse janna chata hun ki 18 saal ke baad bhi height kis age tak badti hai

  3. Sir m Weight hain krna chahta hu. Muje Gym krte hue 6 mahine ho gaye h or mera weight 50 s 55 hua height 6 feet h. Sir m 1 liye dudh, 5 kele, 50gm Soyabean, 1 scoop whey pro, 100 gm Mungfali daily leta hu. Sir m Ande b leta chahta to sir Ande kitne or kis samay lena shi rahega? M gym subh 7 s 8 krta hu. Ande lene ka samay or kitne lene chahiye bataye.

    • दिन में 12 अंडे खाएं। चार चार तीन बार में। 4 नाश्‍ते में 4 दोपहर के खाने के बाद और 4 शाम से लेकर रात तक में कभी भी। रोटी के चक्कर में ज्यादा न पड़ें।

  4. Langot lagatar pahana chahiye aur lngot me pen.. upar ya niche rkhna chahiye

    Aysa sunne me ata hai ki langot pahana se sukranu nast ho. Jata hai aur parjanan chamta kam jata hi

    Answer now

    • लंगोट पहनते समय सबकुछ नीचे की ओर रहना चाहिए। ऊपर की ओर नहीं रखना है। जहां तक शुक्राणु कम होने की बात है तो इस पर कोई रिसर्च तो मेरी जानकारी में नहीं है इसके अलावा मैंने कभी अपने साथियों या ट्रेनर से ऐसा कुछ नहीं सुना। लंगोट तो लंबे समय से हमारे जीवन का हिस्सा है।

  5. Langot ko 24 ghanta use karna chahiye ya nahi
    Suna hai ki langot use karne bala ko verry ki kami ho jaati hai ye baat sahi hai
    Agar langot use karna chahiye to pen.. ko up ya down rakhna chahiye

    • लंगोट बहुत टाइट बांधा जाता है तो मुझे नहीं लगता कि इतना टाइट लंगोट हमे 24 घंटे बांधकर रखना चाहिए। ऐसा नहीं है कि लंगोट बांधने से वीर्य की कमी हो जाती है और लंगोट बांधते वक्त उसे नीचे की ओर करके रखना चाहिए।

  6. sir m anaver use kr rha hu .. eske last dose ke kitne time bad pct start krskta hu m .
    .
    .

  7. Kya lagot badale brief underwear pahanna sakte hai kya

  8. Hame haydosil ka koi samasiya nahi lanhot use kar sakte hai Langot ko kitna samay baandh kar rakhna chahiye

  9. Sir nightfall m lngot pahnna sahi rahega kya

  10. Kya regular langot pehen sakte hai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *