Breaking News

अर्ध हलासन कैसें करें और क्‍या हैं इसके लाभ

yoga hindi
Ardha Halasana by toyaz kumar singh

हर आसन हर शख्‍स नहीं कर सकता। उम्र, अभ्‍यास और अन्‍य कई चीजें होती हैं, जिनके चलते हम हर वो आसन नहीं कर पाते जो योगी लोग कर लेते हैं। मगर योग को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि इसमें कर किसी के लिए कुछ न कुछ है। अगर आपको कमर व पेट की दिक्‍कते हैं और आप नए अभ्‍यासी हैं तो अर्ध हलासन से लाभ उठा सकते हैं।
अर्ध हलासन मोटे तौर पर उत्‍तानपादासन के जैसा ही है। उत्‍तानपादासन में पैर जमीन से करीब एक से डेढ़ फुट ऊपर होते हैं मगर इसमें पैर नब्‍बे डिग्री तक सीधे हो जाते हैं।
यह आसन औरों के मुकाबले आसान है और यह आपको अन्‍य कठिन आसन करने की दिशा की ओर ले जाता है। इसका अभ्‍यास करने से आपको हलासन और उत्‍तानपादासन करने में मदद मिलेगी।

कैसे करें अर्ध हलासन, How to do Ardhahalasana

  1. पीठ के बल जमीन पर लेट जाएं। हथेलियां जमीन की ओर रहेंगी और जांधों के बगल में रहेंगी। ध्‍यान रखें उन्‍हें पैरों के नीचे न दबाएं।
  2. पैरों को आपस में मिला लें और धीरे धीरे उठाते हुए नब्‍बे डिग्री तक ले आएं।
  3. जिन लोगों का पेट बाहर है उन्‍हें 80 डिग्री के बाद मशक्‍कत करनी पड़ती है। बेशक यह देखने में आसान लगता है मगर शुरुआत में नब्‍बे डिग्री तक पैर को टिकाए रखना भी चैलेंज बन जाता है।
  4. सांस की गति सामान्‍य रखें और इसी तरह से तीन मिनट तक ठहरने का अभ्‍यास करें।
  5. हाथों से ताकत न लें कमर और पेट की ताकत का इस्‍तेमाल करें। ध्‍यान रहे सांस की गति सामान्‍य रहेगी क्‍योंकि
  6. अगर आप बीच बीच में सांस रोकते रहेंगे तो आपके पैर डगमगाने लगेंगे।
  7. अगर तीन मिनट तक टिक गए तो अच्‍छी बात है नहीं तो जब तक टिक पाएं ठीक है उसके बाद धीरे से वापस आ जाएं। थोड़ा रुक कर फिर करें। तीन बार ऐसा करें।
  8. अगर हो ही नहीं पा रहा तो इसे दीवार का सहारा लेकर करें और धीरे धीरे दीवार से मदद लेने की आदत छोड़ दें।

अर्ध हलासन से लाभ, Benefits of Ardhahalasana

  • आंतों को ताकतवर बनाता है। कब्‍ज के रोगियों को इसे करने से लाभ मिलता है।
  • यह खाना पचाने की ताकत को बढ़ाता है और मोटापे से लड़ने में मदद करता है।
  • जिन लोगों को गैस की दिक्‍कत है वो इस आसन का नियमित अभ्‍यास करें, आराम मिलता है।
  • अगर नाभि टल गई तो दो से तीन मिनट तक इस आसन को करना चाहिए, नाभि अपनी जगह बैठ जाती है।
  • कमर में दर्द रहता है तो इस आसन को बारी बारी एक एक पैर से करना चाहिए। कमर को ताकत मिलती है।
  • इस आसन के नियमित अभ्‍यास से रीढ़ की हड्डी और भीतर की मसल्‍स ताकतवर बनती हैं।
    पैरों का सो जाना और उनका झनझनाना कम हो जाता है।

Check Also

5 मिनट में फिट हो जायेंगे इस यौगिग एक्‍सरसाइज से

बस पांच मिनट दीजिए और आपके शरीर का हर अंग तरोताजा हो जाएगा। हम आपको ...

4 comments

  1. I would like to make my body. please suggest how to create six packs on my body. I am 35 year old.

  2. Sir mene aapk blog se kafi achi body banai thi lekin meri naadi khisakne ki vajah se dast lag gaye aur kuch b khana khate hi khatta pani muh me ajata he ab nabhi to thik ho gai lekin khatta pani abi b aa raha he iska ilaj bataiye …aur ab me gym kab se kar sakta hu aur future me esa na iske liye nabhi ki majbuti k upay bataiyega sirji

    • मुझे नहीं लगता कि इसकी वजह नाभि का टलना है। आपका डाइजेशन खराब हुआ है मुझे शक है कि आपने कोई प्रोडक्ट यूज या कोेई गोली वगैरा यूज की है। जिसका असर आपके लिवर पर पड़ा है। आप खूब पानी पिएं इससे बॉडी का टॉक्सिक लेवल थोड़ा कम होगा। चाहें तो एलोवेरा जूस हर रोज थोड़ा सा पी सकते हैं, उसका बॉटल पर लिखा होता है कितना पीना चाहिए। इसके अलावा आप सुबह खाली पेट बेल फल जिसे हम बेल पत्थर या बेल पत्र भी कहते हैं उसका दो चम्मच पाउडर पानी के साथ फांक लिया करें। ये आपको खादी व उन दुकानों पर मिलेगा जहां आयुर्वेदिक दवाएं मिलती हैं। याद रहे कि खालिस पाउडर लेना है उसमें कुछ मिला हुआ न हो। अगर पाउडर न मिले तो बेल का मुरब्‍बा ले सकते हैं। उसका एक बड़ा टुकड़ा रोज सुबह खाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *