Breaking News
Home / BODY BUILDING / आपकी बॉडी प्रोटीन का पूरा इस्तेमाल कर पाएगी, अपनाएं ये 8 टिप्स

आपकी बॉडी प्रोटीन का पूरा इस्तेमाल कर पाएगी, अपनाएं ये 8 टिप्स

सौ बातों की एक बात, प्रोटीन के बिना मसल्स नहीं बनते और ये बहुत महंगा आता है। इसके अलावा इस बात की भी गारंटी नहीं है कि आप जितना प्रोटीन ले रहे हैं वो आपकी बॉडी को मिल रहा है। सिर्फ खाकर निकाल देने का मतलब ये नहीं होता कि आपको प्रोटीन हजम हो रहा है। ऐसा भी नहीं है कि ढेर सारा प्रोटीन ठूस लेंगे तो बॉडी बन जाएगी, ऐसा करने से पैसा और शरीर दोनों बर्बाद होते हैं। हमें ना तो जरूरत से कम प्रोटीन लेना है और ना ही जरूरत से ज्यादा लेना है। यह बहुत जरूरी है कि आपकी बॉडी प्रोटीन को एब्जॉर्ब कर पाए। अगर बॉडी प्रोटीन को एब्जॉर्ब ही नहीं कर पाएगी तो या तो रिजल्ट आएगा ही नहीं या फिर बहुत कम आएगा। इस लेख में हम आपको प्रोटीन का फुल पैसा वसूल करने का तरीका बताएंगे। विज्ञान की भाषा में कहूं तो हम ये जानेंगे कि बॉडी की प्रोटीन को हजम करने की कैपेसिटी कैसे बढ़ाएं।

  • प्रोटीन को कई हिस्सों में बांटकर यूज करें।
  • डाइजेस्टिव एंजाइम्स व प्रोबायोटिक्स ले सकते हैं।
  • प्रोटीन के साथ कार्बोहाइड्रेट की जोड़ी बनाएं।
  • विटामिन सी बढ़ाएं, इससे प्रोटीन यूज करने की कैपेसिटी बढ़ेगी।
  • खाने में सलाद को जरूर शामिल करें।

1 थोड़ा-थोड़ा प्रोटीन लें – एक गाना आपने सुना होगा.. थोडी-थोड़ी पिया करो…बस इसी तर्ज पर आपको चलना है थोड़ा थोड़ा पिया करो। मोटे तौर पर कहा जाता है कि एक बार में 30 ग्राम से ज्यादा प्रोटीन नहीं लेना चाहिए। अगर आपको बहुत साइंस में नहीं जाना है तो इसी नियम के आसपास रहें। 30 या 35 या 40 ग्राम बस, इतना बहुत है। हां अगर आप स्टेरॉइड ले रहे हैं तो 50 ग्राम तक जा सकते हैं। मगर यहां भी एक नियम है – आप स्टेरॉइड ले रहे हों या नहीं, प्रोटीन को कम से कम 6 हिस्सों में तोड़कर लें।
मान लें आपको दिन भर में 200 ग्राम प्रोटीन चाहिए तो एक बार में 33 से 34 ग्राम लें। अब वो भले ही प्रोटीन पाउडर हो या फिर नॉर्मल डाइट। एक बार में ढेर सारा प्रोटीन लोड करने का फायदा नहीं है। इससे एब्जॉर्ब करने का रेट कम हो जाता है। प्रोटीन सही से लगेगा तभी तो रिजल्ट भी आएगा।

Why protein powder does not work, hindi

2 प्रोबायोटिक्स सप्लीमेंट्स का यूज करें – बॉडी बिल्डिंग में न्यूट्रीशन से जुड़ा एक बेहद अहम पहलू है अच्छे बैक्टीरिया। ये खाने को डाइजेस्ट करने और मसल्स बनाने में काफी बड़ी भूमिका अदा करते हैं। अच्छे बैक्टीरिया आपके डाइजेस्टिव सिस्टम में रहते हैं – आपके पेट, छोटी व बड़ी आंत में। बैक्टीरिया खाने को इस तरह से तोड़ते हैं ताकि उनका सही तरीके से इस्तेमाल हो सके। अगर आप बॉडी बना रहे हैं तो जाहिर तौर पर अच्छी डाइट ले रहे होंगे। ऐसे में अगर आपको सही लगे तो प्रोबायोटिक्स ड्रिंक या सप्लीमेंट ले सकते हैं। कुल मिलाकर बात ये है कि प्रोबायोटिक्स आपके डाइजेस्टिव सिस्टम को सपोर्ट करते हैं ताकि वह बेहतर तरीके से परफॉर्म कर सके।

3 वो प्रोटीन यूज करें, जो आपकी बॉडी को सही लगे – हर किसी को सोया प्रोटीन सूट नहीं करता। कई लोगों को व्हे प्रोटीन भी सूट नहीं करता। कुछ लोग बकरे का मीट नहीं खाते तो कुछ दूध नहीं पीते। वही प्रोटीन यूज करें, जिससे आपका पेट और मन कंफर्टेबल है। जबरदस्ती ना करें, क्योंकि जो आपके मन और बॉडी को पसंद नहीं उसे वह जल्द से जल्द से बॉडी से निकालने की कोशिश करेगा। ऐसे में आपको उसका उतना फायदा नहीं मिल पाएगा, जितना चाहिए।

4 विटामिन सी यूज करें – बॉडी बिल्डिंग में विटामिन सी का रोल बहुत अहम है। ये प्रोटीन को यूज करने की बॉडी की कैपेसिटी को बढ़ाता है। अपनी डाइट में ढेर सारा विटामिन सी रखें। नींबू का रस, संतरा, ब्रोकली में खूब विटामिन सी होता है। अगर चाहें तो विटामिन सी की टेबलेट भी आती हैं जैसे लिमसी। दिन में दो बार इसे चूसें। हालांकि बेस्ट यही रहेगा कि आपकी डाइट में संतरा, ब्रोकली, नींबू, आंवला वगैरह रहे। आप सिरका भी यूज कर सकते हैं।
मैं खुद कोशिश करता हूं कि डाइट के साथ एक संतरा लूं। जब संतरा नहीं होता तो आधा गिलास हल्के गुनगुने पानी में नींबू का रस निचोड़ कर उसे खाने के साथ सिप करता हूं। आप चाहें तो खाने के साथ ताजा मौसमी का जूस भी ले सकते हैं। यकीन मानें ये बहुत काम का आइडिया है।
दूसरी बात हमेशा याद रखें कि चाय और कॉफी की वजह से प्रोटीन का एब्जॉर्पशन कम हो जाता है। इसलिए इसे अवॉइड करें और खाने से पहले या बाद में तो बिल्कुल ना लें।

5 डाइजेस्टिव एंजाइम ले सकते हैं – बॉडी बिल्डिंग के दौरान हमें दिन में अंडे, चिकन, फिश, प्रोटीन पाउडर वगैर सबकुछ लेना होता है। आमतौर पर हमें 6 बार डाइट लेनी होती है। इतना प्रोटीन डाइजेस्ट करना आसान नहीं होता, इसलिए आप डाइजेस्टिव एंजाइम्स ले सकते हैं जैसे यूनीएंजाइम की गोली या सिरप। कैमिस्ट के पास या किसी आयुर्वेदिक स्टोर पर जाएंगे तो आपको कई नाम बता देगा। अपने बजट के हिसाब से लें। इसे दिन में दो से तीन बार खाने के तुरंत बाद यूज करें।

6 फाइबर जरूरी है – ज्यादा प्रोटीन को हजम करने के लिए डाइट में फाइबर भी होना चाहिए। फाइबर का सीधा सा मतलब है सलाद – मूली, गाजर, खीरा, ब्रोकली, साग, चुकंदर, शलजम, सलाद पत्ता – जिसका भी सीजन चल रहा हो उसे खाने में जरूर रखें। अगर सलाद नहीं ले पाते हैं तो फिर कोई फाइबर सप्लीमेंट यूज करें। मगर मैं फिर यही कहूंगा कि जितना हो सके नेचुरल रहें, ज्यादा फायदे में रहेंगे।

7 साथ में कॉम्प्लैक्स कार्ब लें – खालिस प्रोटीन लेना समझदारी नहीं है। कोशशि करें कि प्रोटीन के साथ कॉम्प्लैक्स कार्बोहाइड्रेट जैसे ओट्स, शकरकंदी, आलू, ब्राउन राइस, होल ग्रेन ब्रेड, राजमा, छोले, दालें वगैरह रहें।

ऐसी हो थाली – मैं उदाहरण के लिए आपको एक मील बता रहा हूं, जिसमें सबकुछ है।
एक छोटी कटोरी ब्राउन राइस, 100 ग्राम चिकन चेस्ट, एक चम्मच एक्स्ट्रा वर्जिन ऑलिव ऑयल, थोड़ा सलाद, एक उबला आलू, आधा गिलास से कम गुनगुने पानी में आधा नींबू का रस। चाहें तो जरा सी दाल भी रख सकते हैं या धनिया टमाटर व लहसन की चटनी।

8 पानी है सबसे जरूरी – आप इन सारे तरीकों को अपना लें लेकिन अगर जरूरत भर का पानी नहीं पी रहे हैं तो रिजल्ट नहीं आएगा और बॉडी को बहुत नुकसान भी पहुंच सकता है खासतौर पर किडनी व लिवर को। प्रोटीन को हजम करने के लिए ढेर सारे पानी की जरूरत होती है। दिन में 4 लीटर तक पानी जरूर पिएं। जो लोग कंपटीशन की तैयारी कर रहे होते हैं वो दिन में छह लीटर तक पानी पीते हैं। याद रखें कोई सप्लीमेंट पानी की जगह नहीं ले सकता।

कुल मिलाकर बात ये है कि अगर आपको प्रोटीन का सही इस्तेमाल करना है तो अपनी बॉडी की मदद करें। उसे प्रोटीन की छोटी छोटी डोज दें। खालिस प्रोटीन की जगह साथ में कॉम्प्लैक्स कार्बोहाइड्रेट भी रखें। यूनीएंजाइम और प्रोबायोटिक्स यूज कर सकते हैं। विटामिन सी का रोल बहुत अहम है उसे डाइट में जरूर रखें। इन सब बातों का ध्यान रखेंगे तो आपका प्रोटीन बर्बाद नहीं होगा।

Check Also

प्रोफेशनल बॉडी बिल्डिंग रखने वाले लोग आखिर इस तरह की बॉडी कैसे बनाते हैं? उसे मेनटेन कैसे करते हैं? डाइट में दिनभर क्या खाते-पीते हैं, क्या सोचते हैं, पार्टी कैसे करते हैं?

कैसे बॉडी बनाते हैं प्रोफेशनल बॉडी बिल्डर, जानें खुद उनकी जुबानी

प्रोफेशनल बॉडी बिल्डिंग करने वाले लोग आखिर इस तरह की बॉडी कैसे बनाते हैं? उसे मेनटेन ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *