Home / BODY BUILDING / ZMA – क्या है और कैसे काम करता है ?

ZMA – क्या है और कैसे काम करता है ?

आजकल जि‍न सप्लीमेंट्स की सबसे ज्यादा बात हो रही है उनमें ZMA ने भी अपना नाम शामि‍ल करा लि‍या है। बहुत कम टाइम में ये काफी पॉपुलर हो गया है। हालांकि‍ भारत में अभी भी बहुत से लोगों को इसके बारे में मुकम्मल जानकारी नहीं है। ये सप्लीमेंट क्या है और क्या काम करता है? ये जानना सबसे जरूरी है कि‍ क्या ये वाकई काम करता है ? इस लेख में हम ZMA से जुड़े हर सवाल का जवाब लि‍खने की कोशि‍श कर रहे हैं।

What is ZMA – क्या है ZMA

ZMA दरआल तीन चीजों का कॉम्बि‍नेशन है – 1 zinc 2 magnesium 3 Vitamin B-6. इन तीनों को एक तय  मात्रा में मि‍लाकर इस सप्लीमेंट को बनाया गया है। बॉडी की बायोलॉजि‍कल प्रोसेस उम्दा तरीके से परफॉर्म करे इसके लि‍ए हमें इन तीनों की जरूरत होती है। अमेरि‍का में हुई एक स्टडी बताती है कि‍ 70% से भी कम अमेरि‍कि‍यों को वाजि‍ब मात्रा में जिंक मि‍ल पाता है और 40 फीसदी से भी कम को मैग्नीशि‍यम की वाजि‍ब डोज मि‍ल पाती है। ये तो हम सब जानते हैं कि‍ ज्यादा कसरत करने से बॉडी में विटामि‍न्स और मि‍नरल्स की कमी हो जाती है या यूं कहें कि‍ उनकी खपत बढ़ जाती है।

Benefits- लाभ 

बॉडी बिल्डिंग के लि‍हाज से देखें तो जिंक बहुत मायने रखता है क्योंकि‍ टेस्टोसटेरोन लेवल बढ़ाने में इसका बड़ा रोल है। जिंक और मैग्नीशयम का लो लेवल बॉडी की ग्रोथ पर असर डालता है। बच्‍चों को डायरिया हो जाता है तो उनकी कमजोरी दूर करने के लि‍ए जिंक का टॉनि‍क दि‍या जाता है। इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि‍ लोगों को जिंक और मैग्नीशि‍यम की कि‍तनी जरूरत होती है। तो ZMA एक सप्लीमेंट के तौर पर इसलि‍ए बेहतर है क्योंकि‍ इसमें जिंक, मैग्नीशि‍यम और विटामि‍न B-6 तीनों सही रेशो में होते हैं। वैसे आप चाहें तो इन तीनों की अलग-अलग डोज ले सकते हैं मगर वो काम झंझट भरा होगा और उसमें टाइम भी ज्यादा खर्च होता है।

Who should use – कि‍न लोगों को है जरूरत

कंपनि‍यां तो हमेशा यही कहेंगी कि‍ अगर आप जि‍म जा रहे हैं तो ZMA जरूर लें, मगर ऐसा है नहीं। जि‍म के बाहर भी तो दुनि‍या है क्या सभी लोग ZMA ले रहे हैं। एक नॉर्मल वर्कआउट करने वाले शख्स को इस सप्लीमेंट की जरूरत नहीं है। आप गेनिंग कर रहे हैं तो खूब खा पी रहे हैं तो भी आपको इस सप्लीमेंट की जरूरत नहीं है क्योंकि‍ आपकी डाइट से जरूरतभर का जिंक और मैग्नीशि‍यम आपको मि‍ल ही जाता है।
मेरी सलाह ये है कि‍ अगर आप कटिंग कर रहे हैं, लीन बॉडी बना रहे हैं या कंपटीशन की तैयारी कर रहे हैं तो आप ZMA के बारे में सोचें। कटिंग के दौरान हम न्‍यूट्रीशन से काफी खि‍लवाड़ करते हैं। इसके अलावा बॉडी में फैट काफी लो हो जाता है। जो लोग लीन बॉडी के लि‍ए स्टेरॉइड और अन्‍य दवाएं ले रहे होते हैं उनकी बॉडी में भी इनकी कमी हो सकती है। इसलि‍ए ऐसे लोगों को ZMA सप्लीमेंट लेना चाहि‍ए।

How and when to use – कैसे और कब लें  

इस सप्लीमेंट को लेने का सही समय है रात को सोते वक्त। जब आप सो रहे होते हैं तो ये अच्‍छे से काम करता है। इसकी बेस्ट परफॉर्मेंस के लिए आप इसे थोड़े खाली पेट पर लें। यानी खाने के 1-2 घंटे बाद लेंगे तो अच्छा है। अगर ऐसा नहीं हो पा रहा है जब भी रात में आपकी नींद टूटे तब ZMA लें।
कई लोग ऐसे भी होते हैं जि‍नके पास खाना खाने के बाद ज्यादा टाइम नहीं बचता है, उनके लि‍ए रात को जब नींद टूटे तब ZMA लेने वाला ऑप्शन ठीक है। अगर आप ऐसे शख्‍स हैं जि‍सकी नींद रात में नहीं टूटती और जि‍से खाने और सोने के बीच में 1 घंटे का भी गैप नहीं मि‍ल पाता तो फि‍र ZMA ना लें, कोई आफत नहीं आ जाएगी।

Dose-डोज 

ZMA कि‍तना लेना है ये इस बात पर डि‍पेंड करता है कि‍ आप कि‍स कंपनी का प्रोडक्ट यूज कर रहे हैं। तमाम कंपनि‍यों का प्रोडक्ट इन दि‍नों बाजार में है। जैसे अगर आप Now का ZMA लेंगे तो उसकी तीन कैप्सूल एक साथ लेनी होती है, सोने से करीब एक घंटा पहले। जि‍स भी कंपनी का प्रोडक्ट लेंगे उसके पैकेट पर डोज लि‍खी होगी। आमतौर पर दो से तीन कैप्सूल लेनी होती है। महि‍लाओं के लि‍ए दो कैप्सूल की डोज काफी होती है।
नोट करें 
ZMA को पानी के साथ लें और दूध के साथ कतई ना लें। अगर आप इस सप्लीमेंट को यूज कर रहे हैं तो कैल्शि‍यम सप्लीमेंट ना यूज करें क्योंकि‍ कैल्शि‍यम की वजह से जिंक और मैग्नीशयि‍म बॉडी में सही ढंग से एब्जॉर्ब नहीं हो पाते। यह सप्लीमेंट 18 साल से कम उम्र के लोगों के लि‍ए नहीं है।
Bottom line 
ग्रोथ को प्रमोट करने और अच्छी नींद के लि‍ए ZMA एक सही सप्लीमेंट है मगर इसे उन्हीं लोगों को लेना चाहि‍ए, जो इंटेंस वर्कआउट कर रहे हैं। नॉर्मल वर्कआउट करने वालों को इसकी कोई खास जरूरत नहीं है। अगर आप सप्लीमेंट खरीदने जा रहे हैं तो सबसे पहले खुद से ये सवाल करें कि‍ क्या मेरी डाइट अच्छी है। अगर डाइट सही नहीं होगी तो कोई सप्लीमेंट आप पर असर नहीं दि‍खा पाएगा। पहले डाइट दुरुस्त करें, फि‍र जरूरत दि‍खे तो प्रोटीन सप्लीमेंट लें उसके बाद इस तरह के सप्लीमेंट की ओर बढ़ें जो micronutrients की जरूरतों को पूरा करते हैं।

Check Also

इन दिनों niacin को लेकर काफी चर्चा हो रही है, इसे कुछ लोग नाइसिन तो कुछ लोग नियासिन भी कहते हैं। नियासिन को आम भाषा में विटामिन B3 के नाम से जाना जाता है।

नियासिन के लाभ और साइड इफेक्ट

बॉडीबिल्डिंग में सप्लीमेंट्स की गिनती लगातार बढ़ती जा रही है। इन दिनों niacin को लेकर ...

4 comments

  1. Sir rest pause technique kya hoti hai ise kise perform karete h fayde kya hote h mujhe full information dijiye.

  2. sir ,

    sir in dino main whey protien ya milk lene k baad loose motion, bloating and stomache k problem se pareshan hu, main whey protien lena chhata hu par muje ya pata nahi chal pa raha h kya ye protein meri body me digest ho raha h ya waste ja raha h. kya ye lactose intolerance h ya kuch or. sir khana pura digest ho uske liye koi safe supplement h kya?

    • ये भी तो हो सकता है कि जो व्हे प्रोटीन आप ले रहे हैं वो नकली हो। वैसे कुछ लोगों को व्हे प्रोटीन सूट नहीं करता। आप उसे छाछ या मट्ठे में ट्राई करें। अगर तब भी परेशानी हो तो फिर पानी में लें और साथ में कुछ खाते हुए उसे पिए जैंसे केला या ब्रेड। इसके अलावा एक और उपाय आप कर सकते हैं। सुबह खाली पेट बेल फल जिसे हम बेल पत्थर या बेल पत्र भी कहते हैं उसका दो चम्मच पाउडर पानी के साथ फांक लिया करें। ये आपको खादी व उन दुकानों पर मिलेगा जहां आयुर्वेदिक दवाएं मिलती हैं। याद रहे कि खालिस पाउडर लेना है उसमें कुछ मिला हुआ न हो। अगर पाउडर न मिले तो बेल का मुरब्‍बा ले सकते हैं। उसका एक बड़ा टुकड़ा रोज सुबह खाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *