Home / STEROIDS / Trenbolone | ट्रेनबोलोन स्टेराइड के साइड इफेक्ट और डोज

Trenbolone | ट्रेनबोलोन स्टेराइड के साइड इफेक्ट और डोज

ट्रेनबोलोन बेहद ताकतवर एनाबॉलिक स्टेराइड है। किसी भी और स्टेराइड के मुकाबले यह हरफनमौला है। वैज्ञानिक और रिसर्च करने वाले इस स्टेराइड का एनाबॉलिक और एंड्रोजेनिक स्कोर 500/500 देते हैं। जबकि टेस्टोस्टेरोन का स्कोर 100/100 है। टेस्टोस्टेरोन ही सभी अन्य स्टेराइड की तुलना करने के लिए बेस लाइन देता है। इसका मतलब ये हुआ कि ट्रेनबोलोन स्टेराइड टेस्टोस्टेरोन से 5 गुना ज्यादा ताकतवर है।

यह दवा के रूप में इस्तेमाल नहीं होता। इसका इस्तेमाल आजकल बॉडी बिल्डिंग और स्पोर्ट्स में ही हो रहा है। यह गेनिंग, कटिंग, कंडिशनिंग, ताकत और रिकवरी सबके लिए है। यह मेटाबॉलिज्म का रेट भी बहुत तेज कर देता है। ट्रेनबोलोन इंजेक्शन और गोली दोनों की फॉर्म में आता है।

इंजेक्शन की फॉर्म में इसकी तीन किस्में हैं। ट्रेनबोलोन एसिटेट trenbolone Acetate, ट्रेनबोलोन इनेनथेट trenbolone Enanthate और ट्रेनबोलोन है क्साहाइड्रोबेंजाइलकार्बोनेट उर्फ ट्रेन हैक्स trenbolone Hexahydobenzylcarbonate।

1 ट्रेनबोलोन एसिटेट – बहुत पॉपुलर है। यह शॉर्ट ईस्टर है तेजी से असर करता है। इसलिए इसका इंजेक्शन हर दूसरे दिन लगाया जाता है। कुछ बॉडी बिल्डर रोज भी लगाते हैं। बस यही इसके साथ खामी है रोज या हर दूसरे दिन इंजेक्शन लगाने पर कुछ दिन बाद ज्यादातर लोगों को ऐसा लगता है कि उनकी बॉडी पिंच बैग हो गई है। कटिंग के दौरान इसके साथ आमतौर पर टेस्टोस्टेरोन प्रॉपिटनेट चलाया जाता है। इसके साथ विंस्ट्रोल की जोड़ी भी सही मानी जाती है।

डोज – एसिटेट का इंजेक्शन हर दिन या हर दूसरे दिन लगाते हैं इसलिए इसकी डोज 50 से 200 एमजी प्रति इंजेक्शन के बीच होती है। साइकिल 10 सप्ताह का होता है।

2 ट्रेनबोलोन इनेनथेट – यह एसिटेट से ज्यादा ताकतवर होता है मगर हैक्स से कम। यह लंबा ईस्टर है इसलिए सप्ताह में एक दिन इसका इंजेक्शन लगाया जाता है। इसके साथ आमतौर पर टेस्टोस्टेरोन इनेनथेट या साइपोनेट को चलाया जाता है। गोली कैप्सूल में इसके साथ एनावार (Anavar) या डाइनाबोल (Dianabol) चलती है। कौन सी चलानी है ये आपके मकसद पर डिपेंट करता है।

डोज – ट्रेनबोलोन इनेनथेट आमतौर पर सप्ताह  में एक बार लगाया जाता है और इसकी डोज 200 एमजी से लेकर 600 एमजी तक होती है। इसका साइकिल आमतौर पर 11 सप्ताह का होता है।

3 ट्रेनबोलोन हैक्साहाइड्रोबेंजाइलकार्बोनेट उर्फ ट्रेन हैक्स – ट्रेन हैक्स से ही पाराबोलान (Parabolan) को बनाया गया है। इस स्टेराइड को जादूई कहा जाता था। यह सबसे फेमस इसलिए हैं क्योंकि यह ऊपर बताई गई दोनों किस्मों से ज्यादा ताकतवर है। यह लंबा ईस्टर वाला इंजेक्शन है और कहा जाता है कि शुरू के दो सप्ताह बाद ही लोग बेहतरीन परफॉर्मेंस करने लगते हैं। इसके साथ दूसरे स्टेराइड को चलाना थोड़ा सा पेंचीदा होता है। ज्यादातर बॉडी बिल्डर इसे कटिंग के लिए इस्तेमाल करते हैं। इसके साथ हर दूसरे दिन टेस्टोस्टेरोन प्रापिनेट और हर दूसरे सप्ताह टेस्टोस्टेरोन साइपोनेट चलाते हैं। इससे बॉडी में इनकी एक चेन बन जाती है।

डोज – ट्रेन हैक्स आमतौर पर सप्ताह  में एक बार लगाया जाता है और इसकी डोज 200 एमजी से लेकर 600 एमजी तक होती है। इसका साइकिल आमतौर पर 11 सप्ताह का होता है।

ट्रेनबोलोन के साइड इफेक्ट

  1. पूरी तरह से नपुंसक हो जाना
    trenbolone steroids is 5 time more powerful than testosteron
    trenbolone steroids is 5 time more powerful than testosteron
  2. गुस्सा और चिड़चिड़ापन
  3. रात को सोते समय पसीने आना
  4. दौड़ भाग करने की ताकत कम हो जाना
  5. गहरे रंग का पेशाब
  6. बालों का गिरना
  7. औरतों जैसी सीना विकसित हो जाना
  8. लिवर और किडनी सहित अन्य अंगों पर खतरनाक प्रभाव
  9. खांसी, खराश होना और इंजेक्शन के बाद हल्की घुटन महसूस होना
  10. इसके अलावा स्टेरॉइड्स से होने वाले बाकी कई तरह के नुकसान इसके इस्तेमाल से भी होते हैं।

कैसे बचते हैं साइड इफेक्टस से – पोस्ट साइकिल थैरेपी तो हर स्टेराइड के साथ की ही जाती है मगर यह बहुत ताकतवर स्टेराइड होता है इसलिए इसके साइड इफेक्ट से बचने के लिए कई तरह ही दवाएं कोर्स के साथ चलाई जाती हैं। इसके साथ तीन या चार तरह की दवा चलाई जाती है। जरूरी नहीं हर जगह दवाएं इसी नाम से मिलें मगर इंटरनेट पर इनका कैमिकल नेम ढूंढकर लोग दूसरे ब्रांड की दवा मंगा लेते हैं। ट्रेन के साथ cardarine (gw-501516), ostarine (mk-2866), cabergoline (Dostinex), HCGenerate, N2 guard चलाई जाती है। शुरू की दो के बिना काम चल जाता है मगर आखिर की दो दवाएं नहीं है तो इसका साइकिल भी नहीं चलाया जाता।

ट्रेनबोलोन की गोली व कैप्सूल – यह दो फॉर्म में आती हैं। एसिटेट (Acetate) और मेट्रिबोलोन (मिथाइलट्रेनोलोन) (Metribolone (methyltrienolene))।

ट्रेनबोलोन की डोज

यह बेहद ताकतवर होती है इसलिए इसका इस्तेमाल कम ही किया जाता है। हालांकि जो लोग करते हैं वो 0.5 एमजी से 2 एमजी प्रतिदिन में नतीजे पा लाते हैं। इसका साइकिल आमतौर पर 4 सप्ताह चलता है।

नोट : बॉडीलैब डॉट इन किसी भी सूरत में स्टेरॉइड के इस्तेमाल की सलाह नहीं देता। हम महज इसके मिस यूज की जानकारी देते हैं। 

Check Also

how to make lean body

लीन बॉडी बनाने वाले 7 बेस्ट स्टेरॉइड के नाम और काम

ये लेख उन लोगों के लिए है, जिनके बारे में मैं जानता हूं कि लाख ...

19 comments

  1. Good job

  2. Gaining m konsa chalta hai sir

    • डेना, डेका, टेस्टा, सिस्टा इन सबका गेनिंग में मिसयूूज होता है।

  3. N2guard India me available hai ki ni sir

  4. Thank you so much for information

    In steroids+pct ki kimat kya hoti hai aur inmese konsi medical stors me miljati hai

    • ये ब्लैक मार्केट में मिलती है ओपन नहीं। काफी महंगी भी होती है।

  5. running k liye inme se konsa trenbolone use hota hai or running speed k liye konsa steriod use hota hai

    • हम स्टेरॉइड को लेकर कोई सलाह नहीं देते। हालांकि रनिंग के लिए लोग आमतौर पर winstrol/Stanozolol और Anavar का मिसयूज करते हैं।

  6. sir mene kbhi steriods nhi liya h kya m pct kr skta hu testosterone badhane k liye kyuki mere hgh (human growth hormones) km h

  7. Sir m trenabol or stanazolol ki cycle chala rha hu
    Mujhko pct btao
    Pct m nolvadex clinic hcg chalegi ki kuch alag bhi
    Whey protein bhi leta hu
    Meri height 6 fut
    Weight. 96 h
    4 saal s gym kar rha hu
    Size to achcha h but cutting nhi thi isliye stupid use kar rhahu

  8. Sir what is the name of tren brand in India. Aur ye kaise mil skta hai mujhe. Maine test and deca ki cycle pahle use ki Hui hai. Dbol bhi use Kiya hai safely. I want a little bit of tren for my new competition. Please tell me if you know. Maine ye sab pharma grad ke use kiye hai Jo medical store ke branded hai lekin tren ka koi dealer nahi hai u.p ka rahne Wala hu.

    • ये आपको ओपन मार्केट में नहीं मिलेगा। अभी ब्लैक मार्केट में ट्रेन के तीन ब्रांड पॉपुलर हैं – मेडिटेक, ए फार्मा और एल ए फार्मा।

  9. Sir trenbollone har week me lagate hai ya fir 2 din chodh kar

    • trenbollone तीन तरह के होते हैं और तीनों को लगाने का टाइम अलग अलग होता है। सबकुछ लिखा तो हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *