सर्दी के मौसम में क्‍या खाएं, क्‍या नहीं

16 नवंबर से लेकर 15 जनवरी तक हेमंत और उसके बाद 15 मार्च तक शिशिर काल चलता है। कुल मिलाकर आप कह सकते हैं कि ठंड का मौसम रहता है। मौसम बदल चुका है अब यह जरूरी है कि हम अपना खानपान बदलें।

जो लोग मौसम के हिसाब से नहीं चलते उनका शरीर वक्‍त से पहले बूढ़ा हो जाता है। हवा, पानी, सर्द गर्म इसका सीधा असर हमारे शरीर पर पड़ता है। हम जो भी खाते या पीते हैं उनकी तासीर, उसे खाने का वक्‍त और उसे खाने के मौसम का हमारी सेहत से डायरेक्‍ट कनेक्‍शन है। हम सौ फीसदी आयुर्वेद के हिसाब से नहीं चल सकते मगर 50 फीसदी भी चल पाए तो कुछ हद तक ऐसी बीमारियों से दूर रहेंगे जो सिर्फ खानपान से आती हैं।

सर्दी के मौसम में हमारी हेल्‍थ आमतौर पर ठीक रहती है। यह मौसम सेहत बनाने के लिहाज से बिल्‍कुल सही माना जाता है। इसमें हाजमा दुरुस्‍त रहता है और खूब ठूस कर खाया हुआ खाना भी हजम हो जाता है। गेनिंग करने वालों के लिए यह वक्‍त बिल्‍कुल सही होता है। जिन लोगों का वजन नहीं बढ़ता उन्‍हें इस मौसम में डाइट अच्‍छी करें तो उन्‍हें यकीनन फायदा होगा। बहरहाल इस लेख में हम आपको बतायेंगे कि सर्दी के मौसम में आपको कैसी डाइट रखनी चाहिए और किन चीजों से परहेज करना चाहिए।

डाइट बढ़ाएं नहीं तो गैस बनेगी

इस मौसम में हमारी कैलोरी की जरूरत थोड़ी बढ़ जाती है क्‍योंकि शरीर को गर्म रखने के लिए एनर्जी की जरूरत होती है। कसरत करने वालों को अब अपनी खुराक बढ़ा देनी चाहिए क्‍योंकि बॉडी को जरूरत के हिसाब से कैलोरी नहीं मिली तो उससे बॉडी के स्‍टोर में मौजूद पोषक तत्‍व खत्‍म होने लगते हैं, इसके चलते गैस बनने लगती है। अगर सर्दियों के मौसम में आपको गैस बनने की दिक्‍कत हो रही हो तो जरा चेक करें क्‍या आप समय पर खाना खा रहे हैं।

इस मौसम में क्‍या नहीं खाना चाहिए

सर्दी के मौसम में हमारी हाजमे की ताकत बढ़ जाती है मगर इसका ये मतलब नहीं है कि आप जो भी खायेंगे वो आपका फायदा ही पहुंचायेगा। इस मौसम में कसैले, कड़वे, ठंडे और गैस बढ़ाने वाली चीजों से परहेज करना चाहिए। आइसक्रीम, बर्फ, सत्‍तू, बिना चिकनाई वाला खाना, खाली पेट रहना, मोठ और ज्‍यादा आलू खाना नुकसान करता है।

तिल और सरसों के तेल की मालिश करें

इस मौसम में कसरत करने से खास फायदा होता है। शरीर बलवान और चुस्‍त बनता है। तिल और सरसों के तेल की मालिश करने से खूब फायदा पहुंचता है। मालिश के बाद कसरत करें और फिर थोड़ी देर बाद गुनगुने पानी से नहाएं। मसल्‍स को सीधे खुराक देती है मालिश, सीखें इसका विज्ञान। 

क्‍या खाना पीना चाहिए –   16 नवंबर से लेकर 15 मार्च तक चिकनी और मीठी चीजें खानी चाहिएं। चावल, गेहूं, नया अनाज, घी, तेल, खासतौर पर गाय का दूध, गुड़, दही, मिश्री, रबडी, मलाई व खोआ खा सकते हैं। चना, उड़द, मसूर, राजमा फायदा करते हैं। आलू, गोभी, पत्‍तागोभी, मटर, नींबू, जिमिकंद, सरसों, बथुआ और मेथी का साग खाएं। तिल और तिल से बनी चीजें खाएं। अदरक, घी और सेंधा नमक मिलाकर बनाई गई मूंग की दाल खाएं। पुलाव भी फायदा करते हैं।

Check Also

सौ ग्राम मूंगफली में कितना प्रोटीन होता है

कुदरत ने हमें सेहत बनाने के लिए जो चीजें दी हैं उनमें एक है मूंगफली। ...

3 comments

  1. body size kai se badai fitness ke sat

    • अपनी बॉडी के वेट के प्रतिकिलो पर करीब 2 ग्राम प्रोटीन लेने की कोशिश करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *