Breaking News

आंतों के लिए कैकटस से कम नहीं ये सलाद पत्‍ता

विदेशों से आया यह सलाद पत्ता (Kale) पहले सिर्फ बड़े होटलों और रेस्टोरेंट में मिलता था मगर अब यह हमारी मंडियों में भी बिकने लगा है। शादी ब्याह में सलाद के चारों को यही लगा रहता है। देखने में खूब हरा भरा और पौष्टिक दिखता है मगर इसके साथ कई दिक्कतें भी जुड़ी हैं। सबसे पहली तो यह है कि ये आसानी से हजम नहीं होता। इसके चलते पेट गड़बड़ा जाता है। हाल ही में डेली मेल में छपी एक रिपोर्ट में लोगों को इसके प्रति आगाह किया गया है। रिपोर्ट कहती है कि यह आंतों के लिए कैकटस के समान है। अब आप सोच लें कि जो लोग खाली पेट इसे चबाते हैं यह उनकी आंतों पर ये क्या जुल्म ढाता होगा।

kaleपतला होने या खूब फाइबर के चक्‍कर में लोग इसे ज्‍यादा और वो भी कच्‍चा खाने लगते हैं तब बात और बिगड़ने लगती है। इसके हरे रंग को देखकर लोग इतना उत्‍साहित हो जाते हैं कि इसका जूस भी निकाल कर पीते हैं। इसके चलते कब्‍ज, पेट का फूलना, गैस और पेट दर्द जैसी दिक्‍कतें खड़ी हो जाती हैं। इसे खाना-पीना बुरा नहीं है मगर बस सलाद तक ही सीमित रखें या वैसे भुजिया बनाकर खाएं जैसे मूली के पत्‍तों की बनती है।
दूसरी बात, इसका फाइबर पेट को मांझ देता है, मगर उसे पोषक और गैर पोषक तत्‍वों में फर्क नहीं पता होता। वो तो सबको पेट से बाहर धकेल देता है। इसलिए थोड़ा ही खाना चाहिए। आप सलाद और हरी सब्‍जियां खा रहे हैं मगर वाजिब मात्रा में पानी नहीं पी रहे तो बॉडी में पानी की कमी भी हो जाएगी। कब्‍ज बन जाएगी क्‍योंकि फाइबर बॉडी का पानी सोखता है।

दरअसल फाइबर/रेशेदार खाने के लेकर अमेरिका, इंग्लैंड जैसे देशों ने जंग छेड़ रखी है और उसी में अपने साथ एशियाई देशों को भी ले लिया है। जबकि हमारा और उनका खानपान व जरूरतें काफी अलग हैं। कुल मिलाकर बात ये है कि इस अंग्रेजी सलाद पत्‍ता को खाने के साथ थोड़ा बहुत खाएंगे तो यह सेहत के लिए अच्‍छा होगा मगर ज्‍यादा खाने पर यह नुकसान करेगा।

Check Also

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कोरोना पर कहा, हमें अब आगे का सोचना होगा

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने कोविड-19 से उत्‍पन्‍न स्थिति पर चर्चा करने और इस महामारी ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *