Breaking News

rajakapotasana | राजाकपोतासन कैसें करें और इसके लाभ

एक योग ऐसा भी है, जिसे करने के बाद आप पूरे दिन तन कर चलेंगे। चेस्‍ट खुल जाएगी, कमर और गर्दन सीधी हो जाएगी। इस आसन का नाम है राजाकपोतासन। इसका मतलब होता है कबूतरों का राजा, तभी तो हमने कहा कुछ सेकेंड के लिए राजा बनकर देखें। इस आसन को करने के मुख्‍य रूप से दो तरीके हैं। एक पैर से किया जाने वाला आसन मतलब एक पाद राजाकपोतासन और दोनों पैरों से मतलब द्विपाद राजाकपोतासन। हम दोनों पैरों से किए जाने वाले राजाकपोतासन करना आपको सिखा रहे हैं।

rajakapotasana-for-web

आपको नहीं करना यह आसन 
गर्भवती महिलाएं, हार्निया के रोगी, पेट का अल्‍सर हो या साइटिका का दर्द हो अथवा कमर में कोई चोट हो तो यह आसन न करें। आंखों का दोष हो तो भी इस आसन से परहेज कर

कैसे करें राजाकपोतासन 

देखने में प्‍यारा सा नजर आने वाला यह आसन आसान नहीं है, लेकिन यह जरूरी नहीं कि आप वैसे ही करें जैसे हमारी मॉडल कर रही है। जहां तक आप पंजों को सिर को करीब ला सकते हैं लाएं और बस वहीं रुक जाएं।
जमीन पर पेट के बल लेट जाएं और अपने हाथों को कमर के पास रखते हुए उनके बल पर कमर से ऊपर का हिस्‍सा उठाएं। गर्दन पीछे झुकाएं और जितना हो सकता है अपनी कमर को जमीन से ऊपर उठा लें। आप अपने हाथों को थोड़ा और पीछे खींचेंगे तो और कमर मुड़ जाएगी। इसके बाद घुटनों को मोड़ लें और पंजों को आगे की ओर झुकाकर सिर के पास ले ले आएं। अब पैरों और हाथों से थोड़ी और ताकत लगाएं और फिर इसी पोजीशन में जितनी देर रह सकते हैं रहें। एकदम से वापस न लौटें। पहले सिर और पैर के बीच थोड़ी दूरी बनाएं, यहां चंद सेकेंड रुकें। इसके बाद पैर जमीन पर वापस ले जाएं, फिर चंद सेकेंड रुकें और इसके बाद कमर
से ऊपर के हिस्‍से को धीरे धीरे जमीन पर ले आएं। कुछ सेकेंड ही ऐसे ही लेटे रहें अथवा मकरासन में लेट जाएं। ध्‍यान रहे, जब आपकी अपर बॉडी ऊपर की ओर जाएगी तो आप सांस भरेंगे। आसन लगाने के बाद सांस थोड़ी छोटी हो जाएगी पर घबराएं नहीं आराम से सांस लेते रहें।

राजाकपोतासन के लाभ 

1 कमर लचीली और मजबूत बनती है।
2 गर्दन और कंधों के मसल्‍स पूरी तरह से खिंचते हैं और मजबूत बनते हैं।
3 छाती खुलती है और चौड़ी होती है।
4 शरीर का वजन नाभी के पास और उससे नीचे के अंगों पर पड़ता है इसलिए वहां का ब्‍लड सर्कुलेशन बढ़ जाता है।
5 इस आसन के नियमित अभ्‍यास से पाचन तंत्र मजबूत बनता है।
6 यह बॉडी पोश्‍चर को ठीक करने में बहुत मदद करता है।
7 थायराइड से जुड़ी दिक्‍कतों को पैदा होने से रोकता है।
8 यूरिनरी सिस्‍टम को दुरुस्‍त करने के लिए यह आसन बताया जाता है।
9 सैक्‍स इच्‍छाओं को कंट्रोल करने में मदद करता है।
10 इस आसन के नियमित अभ्‍यास से हिप्‍स में लचीलापन आता है।

Check Also

5 मिनट में फिट हो जायेंगे इस यौगिग एक्‍सरसाइज से

बस पांच मिनट दीजिए और आपके शरीर का हर अंग तरोताजा हो जाएगा। हम आपको ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *