नकसीर फूटने पर क्या करें, क्या नहीं

अचानक नाक से खून निकल आने को नकसीर फूटना कहते हैं। गर्मियों मे इसके केस बढ़ जाते हैं। आर्युवेद में इसे नासारक्‍त स्रवण कहते हैं। कई लोगों खासकर बच्‍चों को अक्सर इसकी शिकायत होती है। तेज धूप लगने, आग से पैदा हुई गर्मी, हाई बीपी और नाक में किसी प्रकार के संक्रमण के चलते बारबार नकसीर फूटती है। आमतौर पर देखा गया है कि यह समस्‍या जुकाम और कब्ज के पुराने रोगियों को होती है। इस लेख में हम आपको बताएं कि नकसीर फूटने पर आपको क्या करना चाहिए।

नकसीर फूटने पर क्या करना चाहिए 

  • खून आने लगे तो उसे रोकने के लिए बहुत जल्दबाजी न करें। यह शरीर की एक प्रतिक्रिया ही है जो वह अपने बचाव में करता है। सबसे पहले तो रोगी को किसी ठंडे स्‍थान पर ले जाएं। अगर उसने जूते पहने हैं तो जूते और मोजे निकाल दें ताकि शरीर की गर्मी तलुओं से निकल जाए।
  • चेहरे को ठंडे पानी से धोएं और थोड़ी देर बाद सिर को भी ठंडे पानी से धो
    दें। उसके माथे पर ठंडे पानी की पट्टी भी रख सकते हैं।
  • अंगूठे और तर्जनी उंगली के बीच नाक की जड़ को थोड़ी देर तक दबा कर रखें। इससे ब्लड फ्लो रुक जाएगा।
  • इस रोग के इलाज में दूब की घास बड़े काम आती है। अगर आपको उसकी पहचान है तो इस घास का रस निकाल कर नाक के दोनों छेदों में दस दस बूंद डालकर जोर जोर से खींचें। अनार के फूलों कर रस निकालकर भी ऐसा कर सकते हैं।
  • अगर किसी को अक्सर नकसीर फूटती हो तो आयुर्वेद की दवा की दुकान से अणु तैल ले आएं और जब नाक से खून न आ रहा हो तब दस दस बूंदें डालकर जोर से खींचें।
  • नाक से खून निकलने पर व्यक्ति को लिटाकर प्याज का रस नाक में डालें, खून का प्रवाह रुक जाएगा। ताजा नींबू के रस की चंद बूंदें डालने से भी आराम पड़ता है।
  • फिटकरी का पानी बनाकर उसकी कुछ बूंदें डालने से भी लाभ होता हैं।
  • हरे धनिया का रस सुंघाने व ताज़ा हरा धनिया पीसकर सिर पर लेप करने से नकसीर में बहुत फायदा होता है।
  • हरे आंवले के 25 मिलीलीटर रस में 5 ग्राम मिश्री मिलाकर पीने से पुराने नकसीर में बहुत फायदा होता है।
  • रात को कुछ किशमिश भिगो दें और सुबह चबा चबाकर खाएं। कुछ दिन तक नियमित रूप से ऐसा करने से नाक से खून आना बंद हो जाता है।

Bottom line 

जिनकी नकसीर बारबार फूटती हो उन्‍हें कठिन श्रम नहीं करना चाहिए। समय समय पर बीपी भी चेक कराते रहना चाहिए। नकसीर फूटने पर एक बात का खास ध्यान रखें कि कभी भी सिर को पीछे न करें। इससे खून का बहाव खाने की नली की ओर हो सकता है। ये और खतरनाक होगा। बहाव रोकने के लिए अन्य उपाय अपनाएं मगर सिर को पीछे न करें।

by bodylab.in team

 Image courtesy of st0ckimages at freedigitalphotos.net

Check Also

हम यहां मोटापा दूर करने से जुड़े हर तरीके और हर नुस्खे की बात करने वाले हैं।

60 दिन में मोटापा और पेट कैसे कम करें

आधी दुनिया इसी सवाल का जवाब ढूंढ रही है कि मोटापा कैसे कम करें motapa ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *