5 गलतियां जो बढ़ाती हैं डायबिटीज का रिस्‍क

खाने-पीने और रहन सहन से जुड़ी कुछ ऐसी गलतियां हैं, जो हम जाने अनजाने कर ही जाते हैं। इनमें से चंद ऐसी है, जो हमें सीधे डाइबिटीज के दरवाजे पर ले जाकर खड़ा कर देती हैं। यहां हम आपको उन पांच आदतों के बारे में आगाह कर रहे हैं, जो मधुमेह की वजह बनती हैं। इनमें से तीन को भी आपने मैनेज कर लिया तो रिस्‍क से तीन सौ कदम दूर हो जाएंगे।

देर रात के उल्‍लू : देर रात तक काम करने वाले लोग अन्‍य के मुकाबले डायबिटीज के रिस्‍क के दायरे में ज्‍यादा आते हैं। इसकी दो वजह हैं, एक तो ये कि ऐसे लोगों की नींद की क्‍वालिटी अच्‍छी नहीं होती। वो बेशक आठ घंटे की नींद ले लेते हैं पर वो नींद रात की गहरी नींद जैसी नहीं होती।
दूसरी वजह ये है कि रात को जागने वाले लोग रोशनी के संपर्क में ज्‍यादा रहते हैं। रात को तो लाइट जलती ही है दिन में खिड़कियों से झांकती रोशनी, मोबाइल, लैपटॉप, सेल फोन और टीवी वगैरा की रोशनी को भी वो एवॉइड नहीं कर सकते। इस सिलसिले में हुए कुछ शोध कहते हैं कि इनका असर इंसुलिन और ब्‍लड शुगर के लेवल पर पड़ता है। हाल ही में कोरिया में हुआ एक अध्‍ययन इसकी तस्‍दीक करता है।

अच्‍छे वाले बैक्‍टीरिया की बेइज्‍जती: हमारे पेट में दो तरह के बैक्‍टीरिया रहते हैं। अच्‍छे वाले और बुरे वाले। अगर अच्‍छे वाले को खुश नहीं रखेंगे तो बुरा बैक्‍टीरिया आपकी आंतों की ताकत को कम कर देता है, इससे जो जलन जैसी स्‍थिति पैदा होती है वो डायबिटीज के लिए रास्‍ता खोलती है। योगहर्ट, केला, प्‍याज और होल ग्रेन में अच्‍छा बैक्‍टीरिया होता है, खाइए और आंतों को खुश रखिए।

टीवी से प्‍यार और बिस्‍तर से इनकार : रात के वक्‍त खाना खाने के बाद थोड़ी बहुत देर तक टीवी के सामने बैठना कोई बुरा नहीं है, मगर घंटों बिताना आपको नुकसान देगा। अभी हाल ही में पीटर्सबर्ग यूनिवर्सिटी में किया गया एक शोध कहता है कि टीवी के सामने बिताया हुआ आपका हर एक घंटा डायबिटीज के रिस्‍क को 4 फीसदी बढ़ा देता है। इसका कारण यह है कि ज्‍यादा बैठे रहने से आपकी कमर का फैट बढ़ जाता है और पेट का फैट सीधे सीधे डायबिटीज के रिस्‍क से जुड़ा हुआ है।

विटामिन डी की कमी : हो सकता है आपका वेट काबू में हो, मगर यह इस बात की गारंटी नहीं है कि आप डायबिटीज के शिकार नहीं होंगे। अगर शरीर में विटामिन डी की कमी है तो कम वजन वाले लोगों को भी मधुमेह होने का खतरा बढ़ जाता है। दूध और धूप दोनों में विटामिन डी पाया जाता है।

जानलेवा तनाव : तनाव के आपकी बॉडी के शुगल लेवल पर सीधा असर पड़ता है, खासकर अगर वो कामकाज से जुड़ा हो तो। जर्मनी हुआ एक अध्‍ययन बताता है कि ऐसे लोगों जो काममाज को लेकर बेहद तनाव में रहते हैं उनमें टाइप टू डायबिटीज का खतरा 45 फीसदी तक बढ़ जाता है। इसलिए चीजों को अपने अंदर समेटना बंद करें और तनाव की हवा बीच बीच में निकालते रहें।

Image courtesy of Pat138241 at freedigitalphotos.net

Check Also

हम यहां मोटापा दूर करने से जुड़े हर तरीके और हर नुस्खे की बात करने वाले हैं।

60 दिन में मोटापा और पेट कैसे कम करें

आधी दुनिया इसी सवाल का जवाब ढूंढ रही है कि मोटापा कैसे कम करें motapa ...

3 comments

  1. Sir me 2 month se protinex powder le raha hunn..lekin mujhe whey protine Lena hai to me use le skta hunn kya?? uska koi side effect hai??

    • हां ले सकते हैं आमतौर पर व्हे प्रोटीन से कोई नुकसान नहीं होता।

  2. Plz guide me sir..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *